Monday, March 27, 2017

अधूरा सपना

फिर मांझी का साथ, मझधार में छूटा है
फिर एक तारा आसमान से टूटा है
यूँ तो कई सपने होते हैं दिल बहलाने को