Wednesday, April 29, 2015

तेरी आँखें

कुछ सुर्ख सी कुछ ख़ामोश सी
सब कुछ कह जाने को बेताब सी
कभी इधर कभी उधर कुछ तलाशती