Monday, November 28, 2016

अनोखी

कुछ जानी सी, कुछ अंजानी सी
कभी अपनी सी, कभी बेगानी सी
खुद की ही बातों को सुनते रहती